10 फ़ूड जो आपके लीवर को साफ़ करने में सहायक है

10 फ़ूड जो आपके लीवर को साफ़ करने में सहायक है

व्यस्त जिन्दगी और गड़बड़ खान-पान की वजह से लोगो को कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है, जिससे वे काफी परेशान रहते है और चिकित्सको के चक्कर लगाने पड़ते है. ख़राब और गलत व्यंजनों के सेवन से सेहत पर गहरा प्रभाव पड़ता है ऐसे खान-पान से अधिक असर लीवर पर पड़ता है. लीवर हमारे शरीर का मुख्य भाग है. हम जो भी खाते-पीते है वह वह लीवर से होकर पाचन के लिए आंतो तक पहुचता है. लीवर सबसे बड़ा आंतरिक अंग है जो शरीर के अन्य अंगो के माध्यम से रक्त को साफ़ और फ़िल्टर करता है. साथ ही यह पित्त के रस को पाचन में मदद करता है. यह शरीर के कई गतिविधियों को नियंत्रित करता है और शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है. स्वस्थ जीवन और ऊर्जावान बने रहने के लिए लीवर का स्वस्थ और साफ़ रहना बेहद जरुरी है. बेकार खान-पान का सेवन और अपनी लापरवाही के वजह से हम कई बीमारियों के शिकार हो जाते है इसलिए आपको अपनी आहार सूचि को सुधारने की आवश्यकता है जिनके माध्यम से आप इन सभी समस्या से निजात पा सकते है. इस लेख में लीवर को साफ़ रखने वाले टॉप 10 फूड्स का उल्लेख है जो आपके लीवर से सम्बंधित्त समस्या से राहत दिलाने में सहायक साबित होंगे.

टॉप 10 सर्वश्रेष्ठ फ़ूड जो आपके लीवर को साफ़ करने में सहायक है-

  • क्रैनबेरी
  • कॉफ़ी
  • एवाकाडो
  • लहसुन
  • पत्तेदार हरी सब्जियां
  • पत्ता गोभी
  • अंकुरित ब्रोकोली
  • दलिया
  • हरी चाय
  • बादाम

10क्रैनबेरी (करौंदा)-

Cranberries

कई पोषक तत्वों से भरपूर क्रैनबेरी फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतने ही इसके स्वास्थ्य के लिए फायदे भी है. इसे अक्सर ‘सुपर फ़ूड’ के नाम से भी जाना जाता है. क्रैनबेरी सबसे पहले उत्तर अमेरिका में उगाया गया था लेकिन अब इसका सेवन हर जगह किया जाता है. क्रैनबेरी में एंटीऑक्सीडेंट, ऑर्गेनिक एसिड, फ्लेवोनॉयड, एंटी-इंफ्लेमेटरी, डायटरी फायबर, विटामिन-सी और पॉलिफेनॉलिक भरपूर मात्रा में पाए जाते है. यह पोषक तत्व शरीर में कई गंभीर बीमारियों से लड़ने में सक्षम होते है. क्रैनबेरी आपके लीवर के लिए बेहद फायदेमंद है, इसमें पाया जाने वाला एंथोसायनिन लीवर को साफ़ रख के उसे बीमारियों से बचाता है. क्रैनबेरी का उपयोग जूस, सॉस और ड्राई क्रैनबेरी के रूप में किया जा सकता है.

9कॉफ़ी:

कॉफ़ी पीने से तन और मन तरोताज़ा हो जाता है, इसके स्वास्थ्य से संबंधित कई तथ्य भी है, जो सेहत के लिए फायदेमंद है. एक शोध के अनुसार, यह निष्कर्ष निकाला गया है की हर रोज़ कॉफ़ी पिने की आदत आपको लीवर की समस्याओ से राहत दिला सकती है. कॉफ़ी में पाया जाने वाला कैफीन लीवर एंजाइम के स्तर को घटाने में सक्षम है.

Coffee

नेशनल कैंसर इंस्टीटयूट के कियान जिआओ के अनुसार शोध में पाया गया था कि कॉफी पीने की आदत लीवर की सुरक्षा पर प्रभावी असर डाल सकती है। अध्यन के लिए शोधकर्ताओं ने अमरीका के नेशनल हेल्थ एंड न्यूट्रीशन एक्सामिनेशन सर्वे से आंकडे जुटाए। उन्होंने 20 साल की आयु वर्ग के प्रतिभागियों को 24 घंटे की अवधि में कॉफी पीने को दी। अध्ययन में पाया गया की जिन लोगो को दिन में तीन कप या उससे ज्यादा कप कॉफी पी, उनमें एएलपी,एएलटी, एएसटी और जीजीटी का स्तर, कॉफी नहीं पीने वालों की अपेक्षा कम था।

8एवोकैडो:

एवोकैडो एक ऐसा फल है जिसकी की गिनती विश्व के चुनिंदा फलो में होती है यह नाशपाती के आकार का उष्णकटिबंधीय फल है जिसके सेहत के कई सर्वोतम फायदे है.

Avocadro fruit

इसे ‘बटर फ्रूट’ के नाम से भी जाना जाता है. इसमें फैटी-एसिड और कैलोरी अधिक मात्रा में पाई जाती है और कोलेस्ट्रोल की स्तर कम होता है. एवोकैडो मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड का सबसे बढ़िया स्रोत है क्योंकि इसमें शुगर कम मात्रा में पायी जाती है। इसमें मैग्नीशियम, पोटैशियम,राइबोफ्लेविन, कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, विटामिन सी, कॉपर, थायमिन, और जिंक जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो सेहत के लिए कई मायनों में उत्तम है। इसमें पाए जाने वाले आर्गेनिक यौगिक जो लीवर को डेमेज होने से बचाते है और उसे स्वस्थ और मजबूत बनाने में सक्षम होते है.

7लहसुन:

लहसुन एक ऐसा आहार है जो हर सब्जी में स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ इसके स्वास्थ्य के लिए भी अनगिनत फायदे है. लहसुन में मैगज़ीन, केल्शियम, कॉपर, विटामिन ए, विटामिन बी, कार्ब्रोज और फास्फोरस जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है साथ ही, यह एंटीवायरल, एंटीफंगल, एंटीबेक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से सम्रध है. यह कई गंभीर बीमारियों से निजात दिलाने में सहायक है. एक शोध में पाया गया की लहसुन के सेवन से लीवर साफ़ और सुरक्षित रहता है.

Garlic

लहसुन लीवर में मौजुद एंजाइम को एक्टिव कर उसे साफ़ रखता है. लहुसन में पाए जाने वाले एल्‍लीसिन और सेलेनियम नामक तत्‍व लिवर को नुकसान पहुंचाने से भी बचाते हैं। जिन लोगो को लीवर में सूजन की शिकायत होती है उनके लिए भी लहसुन का सेवन फायदेमंद साबित होगा, इस में पाए जाने वाले एस-एलील्मर कैप्टोसाइटिस्टीन हेपेटिक चोटों के उपचार और सूजन में मददगार होते हैं।

6पत्तेदार हरी सब्जियां:

Green Vegetables

हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद ही फायदेमंद है. हरी सब्जियों का सेवन शरीर को स्वस्थ बनाने के साथ-साथ मजबूत भी बनाता है. इन सब्जियों में कैलोरी और फैट कम मात्रा में पाया जाता है, जो मोटापे को नियंत्रित करता है. पत्तेदार हरी सब्जियों के सेवन लीवर का भी साफ़ रखता है. इनमे उच्च मात्रा में क्लोरोफिल होता है जो आपके रक्तप्रवाह से विषाक्त पदार्थों को सोखने में सक्षम बनाता है। इसी प्रकार हरी पत्तेदार सब्जियों में पाए जाने वाले पोषक तत्व लीवर से संबधित समस्याओ से निजात दिलाने में सहायक है और यह ये लीवर को स्वास्थ्य और सुरक्षित रखता है. हरी पत्तेदार सब्जियों का उपयोग आप सूप, सब्जी और सलाद के रूप में कर सकते है.

5पत्ता गोभी:

पत्ता गोभी स्वास्थ्य के लिए एक गुणकारी सब्जी है जो विभिन्न आकार और रंगों में पाई जाती है. इसे ‘बंद गोभी’ के रूप में भी जाना जाता है. पत्ता गोभी का उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजनों का स्वाद बढाने के लिए किया जाता है. स्वादिष्ट होने के साथ-साथ इसके स्वास्थ्य के भी कई प्रकार के फायदे है. इसमें पोटेशियम, आयरन और विटामिन्स की भरपूर मात्रा पाई जाती है. पत्ता गोभी के सेवन से लीवर साफ़ रहता है, क्योकि इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व लीवर के एंजाइम के स्तर को घटाने में सक्षम होते है.

जिससे लीवर सुरक्षित और कई बीमारियों के खतरे से बचा रहता है. पत्ता गोभी का सेवन सब्जी, सलाद, सूप और कई प्रकार के व्यंजनों में किया जा सकता है.

4अंकुरित ब्रोकोली:

अंकुरित ब्रोकोली सबसे अधिक पोषक तत्वों वाला आहार है. पोषक तत्वों के साथ इसमें औषधिय गुण भी भरपूर है. ब्रोकली के सेवन से शरीर में विटामिन और खनिज की कमी पूर्ण होती है.

ब्रोकली की कई किस्मे होती है और यह फुलगोभी जैसी दिखाई देती है. इस हरे रंग की फूल गोभी में कार्बनिक यौगिक, क्रोमियम, विटामिन सी, विटामिन के, फास्फोरस, कोलाइन, पोटेशियम, विटामिन ए और कई अन्य रासायनिक गुण पाए जाते है जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक साबित होते है. ब्रोकली के सेवन कई रूपों में जैसे सलाद, सूप या कई व्यंजनों में किया जाता है.

Sprout Brocolli

कई लोग ब्रोकली अंकुरित करके सेवन करते है. अंकुरित ब्रोकली सेहत के लिए बेहद ही लाभदायक है. यह लीवर कैंसर में काफी मददगार साबित होती है ब्रोकली स्प्राउट्स का सेवन करने पर डिटॉक्सिफिकेशन एंजाइम का स्तर बढ़ता है, जिससे यकृत को नुकसान नही पहुचता है. कई बार लीवर में फैट बढ़ने से भी लीवर की कई समस्याए उत्पन्न हो जाती है. ब्रोकली के सेवन से इस समस्या से राहत सम्भव है क्योकि ब्रोकली में सल्फोराफेन फैटी लीवर के फैट के स्तर को कम करने में सक्षम है.

3दलिया:

अनहेल्थी लाइफस्टाइल और गड़बड़ खान-पान की वजह से कई प्रकार की बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती है. जिसमे से के एक है लीवर का ख़राब होना. पोष्टिक व्यंजनों के कमी के कारण लीवर पर गहरा प्रभाव पड़ता है.

Dalia

जिससे लीवर से सम्बंधित बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती है. ऐसे में पोष्टिक आहार का सेवन गुणकारी होता है, ओटमील के सेवन से लीवर साफ़ रहता है. एक शोध के जरिये पाया गया की ओटमील में बीटा-ग्लूकन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो पाचन की प्रक्रिया को सक्रीय रखता है. जिससे फैटी लीवर की समस्या से निजात पाना संभव हो सकता है. ओटमील के सेवन से पेट के आस-पास जमी चर्बी भी कम होती है.

2ग्रीन टी:

Green Tea

ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस नामक पौधे से बनती है जो सेहत के लिए बहुत लाभदायक है. ग्रीन टी में पॉलीफेनोल्स की मात्रा अधिक होती होती है जो कई बीमारियों से लड़ने में सक्षम होती है. ग्रीन टी में पोषक तत्व जैसे विटामिन-सी, प्रोटीन, थियनाइन, फ्लेवेनॉल और कैटेकिन पाए जाते है. ग्रीन टी लीवर से सम्बंधित बीमारियों से निजात दिलाने में सहायक साबित होती है. नियमित रूप से ग्रीन टी के सेवन से फैट कम हो सकता है. नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के अनुसार, ग्रीन टी लीवर कैंसर से रक्षा करने में सक्षम है. ग्रीन-टी के घटक कैंसर कोशिका के प्रसार को रोकते हैं । ईजीसीजी स्वस्थ कोशिकाओं को प्रभावित किए बगैर कैंसर कोशिकाओं को पनपने से रोकता है और यह कैंसर के इलाज में मददगार साबित हो सकता है, क्योंकि स्वस्थ कोशिकाओं का खत्म होना कैंसर के इलाज में रुकावट साबित हो सकता है। इसलिए ग्रीन टी का नियमित सेवन लीवर की बीमारियों से सम्बंधित लोगो के लिए रामबाण साबित हो सकता है.

1बादाम:

Badaam- Almond

बादाम खाने से दिमाग तेज़ होता है ये आपने कई बार पढ़ा और सुना होगा, लेकिन बादाम का सेवन कई गंभीर बीमारियों से भी निजात दिला सकता है. बादाम में फाइबर, हेल्दी फैट और प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है. बादाम एक स्वस्थ लीवर के लिए भी सहायक साबित हुए है. बादाम विटामिन और वसा से सम्रध है, जो शरीर से ख़राब केलोस्ट्रोल को कम करने और रक्तचाप को कम करने में सहायक है जिससे लीवर साफ़ होता है. वसायुक्त बादाम यकृत रोग से भी लीवर की रक्षा करता है. बादाम में विटामिन इ की भरपूर मात्रा होने के करण लीवर कैंसर का खतरा कम हो जाता है. अपने लीवर को साफ़ और सुरक्षित रखने के लिए बादाम बेहद ही सहायक है.

मनोरंजन, जीवनशैली, यात्रा, व्यंजन, सामाजिक और अन्य विषयो की अद्भुत और उपयोगी जानकारी के लिए Top10Things.co.in को देखे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ENGLISH