10 स्वास्थ्य मिथक जो सच है (Proved By Science)

10 स्वास्थ्य मिथक जो सच है (Proved By Science)

 टॉप 10 स्वास्थ्य मिथक, जिनके बारे में विज्ञान कहता  हैं कि वास्तव में सच हैं

  • गाजर से आंखों की रोशनी में सुधार
  • सोने से ठीक पहले खाने से आपको बुरे सपने आते हैं
  • महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक ठंड महसूस होती है
  • एक्सरसाइज करती है आपको स्मार्ट
  • मसालेदार भोजन खाने से आपको वजन कम करने में मदद मिलती है
  • लहसुन से दांत दर्द में राहत
  • आप सप्ताहांत पर खोई नींद पर पकड़ कर सकते हैं
  • मानसून में जोड़ों का दर्द
  • रात को भारी खाना खाने से मोटापा बढ़ता है
  • ठंड आपको वास्तव में बीमार करती है

10गाजर से आंखों की रोशनी में सुधार:-

carrot is a good for health | top 10 things hindi

गाजर में कई यौगिक होते हैं जो बीटा-कैरोटीन सहित आपकी आंखों के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। यह शरीर को विटामिन ए बनाने में मदद करता है, जो हमारी आंखों को मस्तिष्क द्वारा समझे गए संकेतों में प्रकाश को परिवर्तित करने में मदद करता है। गाजर में भरपूर मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है. आंखों की अच्‍छी सेहत के लिए विटामिन ए बहुत ही जरूरी है. यही नहीं गाजर में मौजूद बीटा कैरोटीन मोतियाबिंद से आंखों की रक्षा कर उनकी देखभाल करता है. जिन लोगों की नजर कमजोर होती है उन्‍हें रोजाना गाजर खाने की सलाह दी जाती है. इसमें कमी से कॉर्निया का अध: पतन हो सकता है, जिससे स्थायी अंधापन भी हो सकता है।

9सोने से ठीक पहले खाने से आपको बुरे सपने आते हैं:-

 

कहने और सुनने में बड़ी ही अजीब लगने वाली बात है की “देर से खाना खाने से आपको बुरे सपने आ सकते हैं”. ऐसे रात को सोने से पहले खाना खाने पर हमारे सपनो पर कोई प्रभाव नही पड़ना चाहिए, क्योकि सपने किसी भी प्रकार से आहार से प्रभावित नही होते है, यह कहना बहुत बेवकूफ हो सकता है लेकिन आश्चर्य की बात यह है की यह बात सत्य है. कई अध्ययनों के बाद पाया गया की खाने और बुरे सपनो के बीच लिंक है. हालाँकि इस लिंक को हम सटीक तंत्र से नही जोड़ सकते है. ऐसा हमारे चयापचय के अत्यधिक सक्रिय होने के कारण हो सकता है जब हम रात के खाने के तुरंत बाद सो जाते हैं, जिससे मस्तिष्क अधिक बेचैन हो जाता है और परिणामस्वरूप गतिविधि बढ़ जाती है। यह न केवल जब आप खाते हैं, बल्कि यह भी कि आप क्या खाते हैं कुछ खाद्य पदार्थ विशेष रूप से दुःस्वप्नों को प्रेरित करने में अच्छे होते हैं.

8 महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक ठंड महसूस होती है:-

हम सभी ने अधिकतर रोमांटिक फिल्मो में देखा है जब भी लड़की को ठंड लगती है तो लड़का अपना कोट उतारकर  लड़की को दे देता है, इसका मतलब लड़के को ज्यादा ठंड नही लगती. यह फिल्म में एक मधुर क्षण के लिए बनाया जाता है. लेकीन सच यह है की वास्तव में महिलओं को पुरुषो की तुलना में अधिक ठंड लगती है. शोधकर्ताओं ने पाया कि महिलाओं के लिए आरामदायक तापमान लगभग 2.5 डिग्री सेल्सियस (4.5 ° F) गर्म होता है, यह पुरुषों के लिए, लगभग 24 से 25 डिग्री सेल्सियस (75-77 ° F) के आसपास गिरता है। महिलाओं की रक्त वाहिकाएं त्वचा को कुशलता से गर्म नहीं करती हैं। महिलाओं की रक्त वाहिकाएं आमतौर पर त्वचा से दूर होती हैं। पुरुषों की सतह के करीब हो जाते हैं। त्वचा की सतह से दूर जाने वाली रक्त वाहिकाएं त्वचा को कुशलता से गर्म नहीं करती हैं।

7एक्सरसाइज करती है आपको स्मार्ट:-

top 10 things hindi | Keep fit with exercise

जैसा की हम सब जानते है की व्यायाम लंबे समय में आपके शरीर के तनाव हार्मोन जैसे कोर्टिसोल को कम करता है। यह एंडोर्फिन को रिलीज करने में भी मदद करता है, जो कि रसायन होते हैं जो आपके मूड को बेहतर बनाते हैं और प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में कार्य करते हैं। व्यायाम शरीर को कई लाभदायक सुख प्रदान करता है. लेकिन बहुत कम लोग ये जानते होगे की व्यायाम करने से हमारा दिमाग भी तेज़ होता है यानी हमारी तीव्रबुद्धि हो जाती है. विषय पर हाल के कुछ शोधों पर गौर करते हैं, तो आप पाएंगे कि वे गलत नहीं हैं। नेचर मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि व्यायाम करने से आइरिसिन नामक एक प्रोटीन रिलीज होता है, जो मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों के साथ-साथ हमारी स्मृति और सोच कौशल के बीच तंत्रिका कनेक्शन को बेहतर बनाता है।

6 मसालेदार भोजन खाने से आपको वजन कम करने में मदद मिलती है:-

spicy foods helps in weight loss | top10thingshindi

ज्यादा जंक फूड खाने से वजन बढ़ता है क्योकि वे तीखे और मसालेदार होते है लेकिन क्या आप ये जानते है की मसालेदार भोजन खाने से वजन कम भी होता है. आपने वजन कम करने के कई उपाय किये होगे यहा तक की आपने मसालेदार व्यंजनो का खाना भी बंद किया होगा. यूनिवर्सिटी ऑफ व्योमिंग के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में, उन्होंने कैप्साइसिन नामक मिर्च में पाए जाने वाले एक रसायन को अलग किया और इसे चूहों को खिलाया। जब उन्होंने कृन्तकों की वसा का सेवन बढ़ा दिया, तो उन्होंने पाया कि चूहे वजन बढ़ाने में असमर्थ थे, जब तक कि रसायन प्रभावी था। जब आप मसालेदार भोजन करते हैं, विशेष रूप से मिर्च, तो इसमें मौजूद कैप्साइसिन चयापचय दर को बढ़ाता है और थर्मोजेनेसिस को ट्रिगर करता है.

5 लहसुन से दांत दर्द में राहत:-

garlic good for health

दांत का दर्द बहुत ही असहनीय और दर्दनाक होता है. ऐसे में हम डॉक्टर की सलाह और परामर्श लेना जरुरी समझते है. लेकिन आपके घर में बड़े-बुढो ने आपको सलाह दी होगी की दांत के दर्द के दौरान लहसून की लौंग का सेवन करना. अधिकतर लोगो ने इस बात को अनसुना और अनदेखा किया होगा.जिन्होंने वास्तव में उनकी सलाह ली थी उन्हें एहसास हुआ होगा कि पुराने लोग उस के साथ मजाक नहीं कर रहे थे। अध्ययनों से पता चला है कि लहसुन वास्तव में अपने जीवाणुरोधी गुणों के कारण दांत दर्द से राहत देने में प्रभावी है। लहसुन शरीर को कुछ अन्य लाभ भी प्रदान कर सकता है, जैसे संक्रमण से लड़ना, रक्त शर्करा के स्तर को कम करना, और यहां तक कि एंटी-ट्यूमर गुण भी।

4आप सप्ताहांत पर खोई नींद पर पकड़ कर सकते हैं:-

top Health myth | top 10 things hindi

38,000 से अधिक स्वीडिश वयस्कों की नींद की आदतों को देखने वाले एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग हर दिन पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, उनमें मृत्यु दर का जोखिम अधिक था, क्योंकि निश्चित रूप से, उन्होंने ऐसा किया था। हालांकि, जो लोग सप्ताहांत के दौरान अपनी खोई हुई नींद को झेलते हैं, उनके लिए मृत्यु दर का जोखिम उतना ही था जितना कि एक नियमित नींद कार्यक्रम के साथ होता था ।

3 मानसून में जोड़ों का दर्द:-

top10thingshindi | Joint pain

कई लोग कहते है की मानसून के दौरान जोड़ो में दर्द रहता है यह बड़ा ही अजीब है. हम सभी के मन मे सवाल भी उत्पन्न होता है की मानसून से जोड़ो के दर्द का क्या लिंक, डॉक्टर कभी भी इसकी व्याख्या नहीं कर पाए हैं। लेकिन यह सच है की मौसम जोड़ों में दर्द को कैसे प्रभावित करता है. मौसम में जोड़ों के दर्द, विशेष रूप से गठिया पर एक निश्चित प्रभाव पड़ता है। एक अध्ययन में पाया गया कि बैरोमीटर के दबाव, कमरे के तापमान और आर्द्रता में परिवर्तन से गठिया के दर्द पर प्रभाव पड़ता है, और जितना अधिक वे बदलते हैं, उतना ही बुरा दर्द होता है। मानसून के दौरान ये पैरामीटर सबसे अधिक भिन्न होते हैं, यही वजह है कि वर्ष के किसी भी अन्य समय की तुलना में इस समय के दौरान गठिया के मरीजो को अधिक दर्द होता हैं।

2 रात को भारी खाना खाने से मोटापा बढ़ता है:-

heavy food not good for health | top 10 things

बहुत से लोग अपना वजन तो कम करना चाहते है लेकिन वे अपने डाइट का विशेष ध्यान रखते है. वजन कम करने के दौरान आपको सलाह भी दी जाती है की रात के खाने में हल्की चीज़े ले. लेकिन वजन कम करने पर रात्रिभोज के समय और मात्रा दोनों  का प्रभाव पड़ता है. शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों के शाम के भोजन में 33 प्रतिशत से अधिक कैलोरी होती है, उनका अधिक वजन अधिक होने की संभावना होती हैं, ये उन लोगों के विपरीत होते हैं जो दिन में अपने सबसे भारी भोजन करते हैं। इसलिए जिनको वजन कम करना है वे रात्री के भोजन में भारी चीज़े लेने से परहेज करे और हल्का खाना खाए.

1 ठंड आपको वास्तव में बीमार करती है:-

Disease in winter | toptenthings hindi

ठंड में बीमार होना आम बात है लेकिन उस बीमारी के कारण को हम वायरस का नाम दे देते है. यह वायरस ही होता है जो आपको बीमार बनाता है. अन्य मौसमो की तुलना में सर्दियों के दौरान अधिक सर्दी और फ्लू से बीमार होने की संभावनाए होती है. लेकिन हर व्यक्ति का बीमार होने में फ्लू वायरस को कोई प्रभाव नही होता वह अधिक ठंड की वजह से भी बीमार हो जाते है. हमारा शरीर भी एक अलग तरीके से प्रतिक्रिया करता हैं जिससे आम सर्दी और भी बदतर हो जाती है। एक अध्ययन के अनुसार, नाक गुहा में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया कम तापमान पर भी काम नहीं करती है

जीवनशैली, सामाजिक, मनोरंजन, यात्रा, व्यंजन और अन्य विषयो पर आधारित महत्वपूर्ण और रोमांचक जानकारी के लिए Top10Things.co.in पर एक नज़र डाले।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ENGLISH