भारत में TOP 10 कला गैलरी और संग्रहालय

भारत में TOP 10 कला गैलरी और संग्रहालय

कला एक ऐसा रूप है जिसमें आत्मा को शामिल करने और भावनाओं को प्रदर्शित करने की अद्भुत ताकत होती है. इसे लिखा और कहा नही जा सकता इसलिए लियोनार्डो दा विंची ने कहा, “पेंटिंग वह कविता है जिसे महसूस किए जाने के बजाय देखा जाता है. विभिन्न कलाकार अपने विचारों को रचनात्मक रूप अपनी कला में उभेर कर लाते है. इन कलाकारों के कला के कार्यों को सम्मान, प्रशंसा और सराहना के लिए आर्ट गैलरी और संग्रहालयो का निर्माण किया गया है. इन गैलरी और संग्राहलयो के माध्यम से कलाकारों के कार्य को सही पृष्ठभूमि मिलती है और उनके काम की सराहना विश्व भर में की जाती है. भारत देश में प्राचीन काल से कला की स्मारकों, महलों, मूर्तियां, भित्तिचित्र और पेंटिंग भारतीय संस्कृति का एक सहज हिस्सा रही हैं। ऐतिहासिक स्मारकों से अलंकृत होने के कारण भारत में मुगलों और ब्रिटिशों का राजसी अतीत है, जो उनकी कलाकृतियों के माध्यम से इतिहास की यादे ताज़ा कर देता है। भारत शानदार कलाकारों और कला रूपों से सम्रध है, यहाँ ऐतिहासिक गाथा को गाने वाली कई विस्मयकारी कलाकृतियाँ मौजूद है. इतिहास और आधुनिक कलाओ को संग्रहित करने के लिए कई दीर्घाएँ और संग्रहालय है, जिनमे इन कृतियों को  संरक्षित रखा जाता है. संग्रहालयो में संग्रहित शिल्प और कलाए आगामी कलाकारों को बेहतर करने के लिए प्रेरित करती है और उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए एक मंच प्रदान करती हैं, जिससे उनकी कला के महत्व को बढ़ावा मिलता है. इस लेख में टॉप 10 भारत के सबसे लोकप्रिय और बेहतरीन गैलरी और संग्राहलयो की सूची है जो कला प्रेमियों के लिए आदर्श स्थान है.

भारत में TOP 10 कला गैलरी और संग्रहालयों की सूची-

  • ललित कला अकादमी, कोलकाता
  • भारत कला भवन, बनारस
  • गवर्मेंट संग्रहालय और आर्ट गैलरी, चंडीगढ़
  • जहांगीर आर्ट गैलरी, मुंबई
  • नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट, बैंगलोर
  • भारतीय संग्रहालय, कोलकाता
  • कोलकाता म्यूजियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट
  • राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली
  • गवर्मेंट म्यूजियम, चेन्नई
  • जवाहर कला केंद्र, जयपुर

10ललित कला अकादमी, कोलकाता:

कोलकता में स्थित ललित कला अकादमी भारत के सबसे प्रसिद्ध गैलरी की सूची में है. यह एक गैर-सरकारी सांस्कृतिक संस्था है जो सबसे पुरानी ललित कला समाजों में से एक है। 1933 में, ललित कला अकादमी की स्थापना की गयी थी.Academy of Fine Arts located in kolkata | top10thingshindi

पहले इस अकादमी का कोई भवन नही था अकादमी के पहले अध्यक्ष महाराजा प्रोद्योत कुमार टैगोर बचपन से ही अपने परिवार के विशाल और विविध कला संग्रह के साथ थे। श्री जवाहरलाल नेहरू और डॉ. बिधान चंद्र रॉय ने महसूस किया की समकालीन आगंतुकों को प्रतिष्ठित चित्रों और मूर्तियों आदि को दिखाने के लिए कलकत्ता में एक आर्ट गैलरी होनी चाहिए।

1960 में, कैथेड्रल रोड पर अकादमी का भवन निर्माण पूरा हुआ। सितंबर 1960 में, पचास चित्रों की प्रदर्शनी के साथ नए भवन में गैलरी का शुभारम्भ हुआ. इस गैलरी में कई कलाकारों की प्रदर्शनीयाँ प्रदशित है.

9भारत कला भवन:

बनारस में स्थित भारत कला भवन एक विश्वविद्यालय संग्रहालय है जो 1920 जनवरी में विकसित हुआ था। इस संग्रहालय ने भारतीय कला और संस्कृति पर ज्ञान के प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

Bharat Kala Bhavan art gallery of india

इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धी प्राप्त हुई और इसका श्रेय प्रसिद्ध हिंदी लेखक पद्मविभूषण स्वर्गीय राय कृष्णदासा को जाता है.

वर्तमान में, इस संग्रहालय में 100,000 से अधिक यादगार संग्रह संग्रहित है. जिसमे मुख्य रूप से अभिलेखीय सामग्री, सजावटी कला, साहित्यिक, वैयक्तिक संग्रह, भारतीय दार्शनिक, कपड़ा और वेशभूषा, बौद्ध कलाकृतियाँ, हिंदू मूर्तियाँ, मिट्टी के बर्तन, हाथी दांत के सामान और अन्य शामिल है.

भारत कला भवन वाराणसी शहर में महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक है।

 

 

8गवर्मेंट म्यूज़ियम और आर्ट गैलरी, चंडीगढ़

गवर्नमेंट म्यूज़ियम एंड आर्ट गैलरी भारत के सबसे प्रसिद्ध और बेहतरीन संग्रहालयो में से एक है. यह चंडीगढ़ उत्तर भारत का एक प्रमुख संग्रहालय है.

top10things | Government Museum and Art Gallery based in chandigarh

1962-1967 में, इसका निर्माण कार्य पूरा हुआ था, इसे स्विस मूल के फ्रांसीसी वास्तुकार ले. कोर्बुज़ियर, मनमोहन नाथ शर्मा, पियरे जीनरनेट और शिव दत्त शर्मा जैसे आर्किटेक्टों द्वारा डिज़ाइन किया था। अप्रैल1949 में, संग्राहलय के पाकिस्तान से प्राप्त संग्रह को पहले अमृतसर, फिर शिमला, पटियाला में रखा गया और अंत में 1968 में संग्रहालय के उद्घाटन के समय चंडीगढ़ में स्थानांतरित कर दिया गया। इस संग्रहालय में बुद्ध की कई अलग-अलग मूर्तियां हैं जिनमे कुछ मूर्तियों में बुद्ध के लम्बे, खुले बाल हैं और कई मूर्तियों में बाल कटे हुए बालों के साथ मूंछें हैं। इसके संग्रह में गंधारन की मूर्तियां, पहाड़ी और राजस्थानी लघु चित्रों का संग्रह भी शामिल है।

इसके अलावा, यहा पर धातु की मूर्तियां, न्यूमिज़माटिक्स, पत्थर की मूर्तियां, सजावटी कला, वस्त्र, पांडुलिपियां और  मिट्टी के बर्तनों की प्रदर्शनीयाँ प्रदशित है. गवर्नमेंट म्यूज़ियम एंड आर्ट गैलरी का दौरान कला प्रेमियों के लिए आदर्श है.

 

7जहांगीर आर्ट गैलरी, मुंबई:

जहांगीर आर्ट गैलरी मुंबई के प्रमुख और सबसे पुराने कला संस्थानों में से एक है। इस गैलरी को 1952 में स्थापित किया गया था. संग्रहालय की हवेली की पूरी लागत कोवसजी घंगिर द्वारा दान की गई थी। जहाँगीर आर्ट गैलरी के संस्थापक सर कावसजी जहाँगीर ने देश के राजनीतिक जीवन में और कला के एक महान संरक्षक के रूप में उल्लेखनीय योगदान दिया।

Jahangir Art Gallery Top gallery of india

इस संग्रहालय में देश के सबसे पुराने लाइसेंस प्राप्त एंटीक डीलर नटसन भी शामिल हैं. इस गैलरी में अपने काम को प्रदर्शित करने के लिए देश-विदेश के कलाकार आते हैं। यहाँ जामिनी रॉय से लेकर अर्पिता सिंह तक लगभग सभी प्रसिद्ध भारतीय कलाकारों के चित्र प्रदशित हैं। इस संग्रहालय का दौरा करने पर गैलरी में दुनिया की कुछ बेहतरीन कला कृतियाँ देखने को मिलेंगी, जिनका अनुभव वाकई ही अद्भुत है।

इसके अलावा, जहांगीर आर्ट गैलरी चुनिंदा मूर्तिकारों, चित्रकारों, शिल्पकारों, प्रिंट निर्माताओं, सिरेमिक, फोटोग्राफरों और बुनकरों द्वारा प्रदर्शनियों की मेजबानी करता है।

 

6नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट, बैंगलोर:

नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट बैंगलोर में स्थापित एक प्रसिद्ध और प्रमुख आर्ट गैलरी है, जिसे 18 फरवरी, 2009 को जनता के लिए खोला गया था. यह गैलरी देश के सांस्कृतिक लोकाचारों के भंडार के रूप में है और इसमें 18 वीं सदी से लेकर वर्तमान समय तक की भारतीय कला प्रदर्शित है। एनजीएमए अभिलेखागार में दस्तावेजों के अनुसार, इस इमारत को मुडालियर ने अपने करियर की शुरुआत में खरीदा था।

beauty of National Gallery of Modern Art | top10thingshindi

उनका परिवार काफी सालों तक हवेली में रहा लेकिन वित्तीय समस्याओं के कारण इसे नीलामी में रखा गया था। उसके बाद, इस ईमारत को नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट के लिए चुना गया. इस आर्ट गैलरी में पारंपरिक और आधुनिक दोनों शैलियों के 500 से अधिक चित्र हैं।

गैलरी में जैमिनी रॉय, अमृता शेर-गिल, रवींद्रनाथ टैगोर और राजा रवि वर्मा की आधुनिक भारतीय कला और घरों के चित्र प्रदशित है. इसमें मुख्य रूप से मूर्तियां,पेंटिंग, ग्राफिक और प्रिंट की प्रदर्शनियाँ शामिल है. चित्रों और मूर्तियों के स्थायी प्रदर्शन के अलावा, यह नियमित रूप से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों को भी प्रदर्शित करता है।

5भारतीय संग्रहालय, कोलकाता:

कोलकाता, पश्चिम बंगाल में स्थित भारतीय संग्रहालय एशिया-प्रशांत क्षेत्र का सबसे बड़ा और सबसे पुराना बहुउद्देशीय संग्रहालय है, इसे औपनिवेशिक युग के ग्रंथों में इम्पीरियल संग्रहालय के रूप में भी जाना जाता है. यह संग्रहालय दुनिया का नौवाँ सबसे पुराना संग्रहालय है. संग्रहालय की उत्पत्ति 1814 की मानी जाती है.

Indian Museum located in kolkata | top 10 things

1784 में, इसकी स्थापना मानव जाति की प्राकृतिक और सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण के उद्देश्य से की गई थी। 1875 में, इसका निर्माण कार्य पूरा हुआ इसे प्रसिद्ध वास्तुकार डब्ल्यू.एल. ग्रैंडविल ने डिज़ाइन किया था. भारतीय संग्रहालय में भारतीय कला, भूविज्ञान, प्राणीशास्त्र, पुरातत्व, नृविज्ञान और आर्थिक वनस्पति शास्त्र जैसे सांस्कृतिक और वैज्ञानिक कलाकृतियों की पैंतीस दीर्घाओं वाले छह खंड हैं। इसमें संग्रहालय में मुख्य रूप से प्राचीन वस्तुओं, जीवाश्मों, कंकालों, कवच और आभूषणों, ममियों और मुगल चित्रों के दुर्लभ संग्रह हैं। इसकी सिक्का गैलरी में पूरी दुनिया में भारतीय सिक्कों का सबसे बड़ा संग्रह है।

इस संग्राहलय की विशेषता है की इसमें 50,000 से अधिक पुस्तकों, दुर्लभ प्रकाशनों और पत्रिकाओं का विशाल संग्रह पा सकते है. भारतीय संग्रहालय में प्राणी संग्रह ने 1916 में जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया का गठन किया, जो वर्तमान में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक सरकारी संगठन है। यह संग्रहालय पुरातत्व खंड अंतरराष्ट्रीय महत्व के संग्रह रखता हैं और साथ ही यह भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन है।

4कोलकाता म्यूजियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट:

कोलकाता म्यूज़ियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट बहुचर्चित प्रस्तावित कला संग्रहालय है। इस संग्रहालय को स्विस आर्किटेक्ट हर्ज़ोग और डी मेयूरन द्वारा डिज़ाइन किया गया है, इसकी कुल लागत 500 करोड़ रुपये आंकी गई है.

view of Kolkata Museum of Modern Art | top10thingshindi

कोलकाता म्यूजियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट की स्थापना का उद्देश्य स्थानीय कलाकारों को सशक्त बनाना है जिससे वे अपने समुदाय के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकें।

साथ ही, कलाकार स्टूडियो और एक बाहरी प्रदर्शन थिएटर के लिए उच्च अंत गैलरी बनाना भी है. इसमें समकालीन, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कला एक साथ प्रदशित है. इस संग्रहालय में सिनेमा, फोटोग्राफी, प्रदर्शन कला, संगीत, साहित्य, ललित कला और मूर्तिकला की कई बेहतरीन प्रदर्शनियाँ प्रदशित है.

कोलकाता म्यूजियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट वाकई ही कला प्रेमियों के लिए प्रेरणादायक स्थान है.

3राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली:

राष्ट्रीय संग्रहालय भारत के सबसे लोकप्रिय और बेहतरीन कला संग्रहालयो में से एक है. साथ ही, यह भारत में सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक है। 1949 में, राष्ट्रीय संग्रहालय को स्थापित किया गया. यह संग्रहालय संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन कार्य करता है।

National Museum of New Delhi, india

इसमें पूर्व-ऐतिहासिक युग से लेकर कला के आधुनिक कार्यों तक के विभिन्न लेख हैं। 1983 से स्थापित इसमें राष्ट्रीय संग्रहालय इंस्टीट्यूट ऑफ द हिस्ट्री ऑफ आर्ट्स, कंजर्वेशन और म्यूजियोलॉजी भी है. यह जुड़ा हुआ खंड मास्टर्स और डॉक्टरेट की डिग्री के लिए कला, संरक्षण और संग्रहालय के इतिहास में विभिन्न पाठ्यक्रम चलाता है। इस संग्रहालय में भारतीय और विदेशी दोनों सहित 200,000 कलाकृतियों का संग्रह संग्रहित है. राष्ट्रिय संग्रहालय 4 वीं और 5 वीं शताब्दी ई.पू  के बुद्ध और हड़प्पा सभ्यता के समय अवशेष जैसे पेंटिंग, मूर्तियां, भित्ति चित्र,लकड़ी की नक्काशी,वस्त्र और शस्त्रागार का संग्रह संग्रहित  होने का दावा करता है.

इसके अलावा, इस संग्रहालय में सजावटी कला, आभूषण, पांडुलिपियां, पुरातत्व,एपिग्राफी, मध्य एशियाई पुरातनपंथी,वस्त्र, न्यूमिज़माटिक्स,पूर्व-कोलंबियन अमेरिकी, पश्चिमी कला संग्रह और मानव विज्ञान के अलग-अलग विभाग शामिल है.

यह संग्रहालय वाकई कला प्रेमियों के लिए आदर्श स्थान  है. इतिहास की कई अमूल्य चीजों को करीब से महसूस करने का अवसर राष्ट्रीय संग्रहालय प्रदान करता है.

2गवर्मेंट म्यूजियम, चेन्नई:

चेन्नई स्थित गवर्मेंट म्यूजियम भारत का दूसरा सबसे पुराना संग्रहालय है। इसे एगमोर म्यूजियम या मद्रास म्यूजियम के नाम से भी जाना जाता है. 1846 में, इस संग्रहालय को मद्रास लिटरेरी सोसाइटी द्वारा योजनाबद्ध किया गया था। इसमें 500 ईसा पूर्व से 1000 तक की कांस्य की मूर्तियों का संग्रह है इसी वजह से यह पुरातात्विक और संख्यात्मक संग्रह में समृद्ध दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा संग्रहालय भी है। यहाँ तक की इसमें यूरोप के बाहर रोमन प्राचीन वस्तुओं का सबसे बड़ा संग्रह है।

top10thingshindi | beauty of Government Museum located in chennai

इसके परिसर में 46 दीर्घाओं के साथ छह स्वतंत्र भवन हैं। 1862 में, इस संग्रहालय को जनता के लिए खोल दिया गया था। इस संग्रहालय में मुख्य रूप से पुरातत्व, नृविज्ञान, भूविज्ञान, वनस्पति विज्ञान, समकालीन कला, प्राणीशास्त्र, न्यूमिज़माटिक्स, अमरावती पत्थर, गुड़िया अनुभाग, प्रौद्योगिकी, उत्कृष्ट पेंटिंग और कई अन्य कलाकृतिया प्रदशित है. इसमें उत्तम नक्काशी, हथियारों संग्रह, कवच, दक्षिण भारतीय संगीत वाद्ययंत्रों का संग्रह, आभूषण, पत्थर और लोहे का भी बड़ा संग्रह शामिल है. यह संग्रहालय आपको इतिहास, संस्कृति भारतीय कला और परंपरा से रूबरू करवाता है। कला प्रेमियों के लिए यह संग्रहालय आदर्श स्थान साबित हो सकता है.

1जवाहर कला केंद्र, जयपुर

राजस्थान में विरासत से सम्रध शहर जयपुर में स्थित जवाहर कला केंद्र भारत के लोकप्रिय कला संग्रहालयो की सूची में शामिल है. यह एक बहु कला केंद्र है जिसमे शास्त्रीय कला और लोक कलाओ का समायोजन मिलता है.

wonderful Jawahar Arts Center | top 10 things hindi

1986 में, वास्तुकलाकार चार्ल्स कॉरिया ने कला केंद्र का वास्तु चित्र तैयार किया था और इसका निर्माण 1991 में पूर्ण हुआ. जवाहर कला केंद्र की स्थापना राजस्थान की असंख्य कला और शिल्प को संरक्षित करने के लिए की गयी थी. इस केंद्र आठ विव्हागो में ब्लॉक हाउसिंग म्यूजियम, एम्फी थियेटर, लाइब्रेरी, ऑडिटोरियम, आर्ट्स डिस्प्ले रूम, , आर्ट-स्टूडियो और कैफेटेरिया के रूप में बनाया गया है. इस कला की आर्ट गैलरी में कलाकृतियों, चित्रों और स्थानीय हस्तशिल्प का बेहतरीन संग्रह है। यहाँ का दौरा करने पर राजस्थानी कलाओ और हस्तकलाओ का अनुभव मिलेगा. कला का अनुभव लेने के लिए जवाहर कला केंद्र देशी ही नही बल्कि कई संख्या में विदेशी पर्यटक भी हर साल आते है. जवाहर कला केंद्र हर साल आयोजित होने वाले उत्सव की मेजबानी करता है।

मनोरंजन, यात्रा, जीवनशैली, कला, सामाजिक और अन्य विषयो की अद्भुत और उपयोगी जानकारी के लिए Top10Things.co.in को देखे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ENGLISH