कसौली मैं घूमने के Top 10 प्रमुख स्थान

कसौली मैं घूमने के Top 10 प्रमुख स्थान
  • गिल्बर्ट नेचर ट्रेल
  • ऊपरी मॉल रोड में पैदल चलना
  • देवदार के जंगलो की सैर
  • क्राइस्ट चर्च
  • ट्रेकिंग टूर्स
  • टॉय ट्रेन की सवारी
  • गोरखा किला
  • टिंबर ट्रेल
  • विरासत और मॉल बाजार
  • प्रकृति की सैर

10गिल्बर्ट नेचर ट्रेल:-

जिन्दगी की भाग-दौड़ से दूर कही एकांत और प्रकृति में आनंद के पलों को खोजना और अपनी आत्मा को पुनर्जीवित करने के सर्वोत्तम तरीका है. अगर आप कसौली में अपनी छुट्टिया बिताने की योजना बना रहे है तो वहां पर गिल्बर्ट नेचर ट्रेल का आनंद जरुर उठाये. एक तरफ पहाड़ और दूसरी और देवदार के पेड़ और उनके बीच बने संकरे रास्ते पर चलना एक अद्भुत अनुभव है. कसौली में यह सबसे बेहतरीन चीजों में से एक है. जब आप इस पगडंडी पर चलते है तो आपको अनुभव खुशनुमा माहौल और ठंडी हवा का आनंद महसूस होगा. यहाँ से सूर्यास्त का नज़र बहुत ही विसम्यकारी होता है. कसौली आपके समक्ष घाटी, आकाश और जंगल का एक राजसी दृश्य प्रस्तुत करता है।

9ऊपरी मॉल रोड में पैदल चलना:-

मॉल रोड कसौली के आकर्षक पर्यटक स्थलों में से एक है. यहा आप वादियों के साथ- साथ स्वादिष्ट व्यंजनों का भी लुफ्त उठा सकते है. उपरी मॉल रोड पर पैदल चलना अपने आप में एक अद्भुत अनुभव है और बहुत ही रोमांचक है. यहाँ का माहौल अपने मन को प्रफुलित कर देगा. चहकते हुए पक्षियों को सुनना, सुखद और शांत वातावरण में साँस लेना बहुत ही आनंदमयी होगा. पैदल चलते हुए आप यहाँ की खुबसूरत इमारतो और स्मारकों को देख सकते है.

8देवदार के जंगलो की सैर:-

कसौली का पूरा शहर ही देवदार के जंगलो के बीच बसा हुआ है. ऊचे-ऊचे और मजबूत देवदार के पेड़ो की खुबसूरत आपको मंत्रमुग्ध कर देगी. यहाँ का हर एक स्थान आपको जंगल जैसे अनुभूत देगा. देवदार की जंगलो की सैर मानो ख़ुशी का एक रास्ते पर जाना है. यह पैदल विस्मयकारी यात्राए है जो आपको मग्नमुग्ध कर देती है. यहाँ से आप पाइन स्मारिका को जरुर प्राप्त करे.

7क्राइस्ट चर्च:-

भारत के उत्तरी भाग में कसौली में स्थित क्राइस्ट चर्च दूसरी सबसे पुरानी चर्च मानी जाती है. क्राइस्ट चर्च का निर्माण 1846 से 1857 के बीच माना जाता है. यह एंग्लिकन चर्च के नाम से भी प्रसिद्ध है. इस चर्च की डिजाईन कर्नल जे.टी बोइल्यू के द्वारा की गई थी। चर्च को प्रतीकात्मक गोथिक शैली की वास्तुकला में निर्मित किया  गया है. क्राइस्ट चर्च की खिड़कियाँ रंगीन ग्लासों और ब्रास के सुन्दर टुकड़ों से सजी हुई है जिन पर धूप पड़ने पर वह चमकती है. चर्च के सामने एक घडी टावर है जिसे 1860 में  स्थापित किया गया था जी हमे ब्रिटिश काल की याद दिलाता है. चर्च के शीर्ष भाग पर हरे रंग की झोपड़ियो की आकृति बनी हुई है जो की पर्यटकों को आकर्षित करती है. कसौली की यात्रा के दौरान क्राइस्ट चर्च का भी दौरा करे यह आपको एक नया अनुभव प्रदान करेगा.

समय: सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक.

टिकट: निशुल्क.

6ट्रेकिंग टूर्स:-

ट्रेकिंग के दौरान कुछ रोमांचक पलों को समेटना वाकई ही अद्भुत अनुभव है. कसौली में घुमावदार पहाड़ो, शांत और आरामदायक मौसम और खुशनुमा माहौल में ट्रेकिंग करना आकर्षक चीजों में से एक है. ट्रेकिंग के दौरान जूते और ट्रैकसूट अपने साथ अवश्य रखे. ट्रेकिंग के दौरान कई ऐसे पॉइंट जैसे मानकी, जबली, और सनसेट आयेगे जो आपको आराम के साथ-साथ आनंद की अनुभूति भी प्रदान करेगे.

5टॉय ट्रेन की सवारी:-

कसौली में टॉय ट्रेन की सवारी करना अपने आप में एक विस्मयकारी अनुभव है. टॉय ट्रेन की सवारी आपकी यात्रा को अनोखा और मंत्रमुग्ध कर देगी. टॉय ट्रेन में आप कसौली से धरमपुर लगभग 10 किमी की यात्रा कर सकते है. पहाड़ियों की सुरंगों ,हरी-भरी घाटियों और देवदार के जंगलों से से गुजरती हुई यह टॉय ट्रेन आपको एक सुनहरा अनुभव दे जाती है. ट्रेन की खिड़की से बाहर की ओर देखना विस्मयकारी है. यह ट्रेन खाइयों के ऊपर बने घुमावदार पथ पर एक साँप की तरह चलती है. यह कई जगह रूकती भी है जिससे पर्यटक ऊची पहाडियों और फोटोग्राफी का आनंद ले सके. ट्रेन की यात्रा के दौरान आपको बड़ोग में सबसे लंबी सुरंग का अनुभव भी प्राप्त होगा.

खुलने का समय: ट्रेन का समय बदलता रहता है।

शुल्क: आईआरसीटीसी की सभी भागीदार वेबसाइटों से एक महीने की अग्रिम में टॉय ट्रेन के टिकट बुक किए जा सकते हैं।

4गोरखा किला:-

गोरखा किला हिमाचल प्रदेश में स्थित एक पुराना ऐतिहासिक स्थल है जो परवाणू में सुबाथू में एक पहाड़ी पर विराजमान है. यह किला समुद्र सतह से 1437 मीटर की ऊँचाई पर है. इस किले की विशेषता है की गुरखाओं द्वारा बनाये गए इस किले में 180 साल पुरानी तोपें हैं जिसका उपयोग युद्ध में किया गया था। किला कसौली के घने जंगलो से घिरा हुआ है. यहा आप सड़क मार्ग से जा सकते है गोरखा किला फोटोग्राफी के लिए एक अद्भुत जगह है। साथ ही, आप किले के आस-पास के गावो की भी यात्रा कर सकते हो. ये गाँव बहुत ही सुन्दर और शांत है.

3टिंबर ट्रेल:-

अगर आप कसौली में शांत और मजेदार चीजों को खोज रहे है तो टिम्बर ट्रेल आपके लिए उतम है. यह कसौली में आनंद की अनुभूति करने के लिए सबसे अच्छी गतिविधियों में से एक है। टिम्बर ट्रेल की यात्रा आपके समक्ष राजसी पहाड़ों और हरी घाटियों के दृश्यों की एक आश्चर्यजनक तस्वीर पेश करती है. कसौली की यात्रा के दौरान टिम्बर ट्रेल केबल कार का आनंद लें जो 1.8 किमी रोपवे है। हलचल भरी जिन्दगी में शांति खोजने का यह उतम तरीका है. आपके इन बेहतरीन पलों को कैद करना न भूले.

समय: सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक

टिकट: वयस्कों के लिए INR 1200 और बच्चों के लिए INR 1000 (केबल कार की सवारी के लिए)

2विरासत और मॉल बाजार:-

कसौली में विरासत और मॉल बाज़ार की यात्रा बहुत ही बेहतरीन होगी. विरासत बाज़ार आप स्मृति चिन्ह और कुछ स्थानीय सामान अपने परिजनों और प्रियजनों के लिए खरीद सकते है. इस बाज़ार की पूरी गली में 8 से 10 दुकाने है, जिन्हें स्थानीय लोग चलाते है. यहाँ से आप सस्ती रेट पर बेहतरीन गुणवत्ता के गर्म कपडे भी ले सकते है. माँल बाज़ार कसौली का मुख्य आकर्षक बाज़ार है यहाँ आप स्वादिष्ट व्यंजनों को भी लुफ्त उठा सकते है. इस बाज़ार के स्वादिष्ट मोमोज़ का आनंद जरुर ले.

1प्रकृति की सैर:-

प्रकृति की सैर कसौली में करने वाली सबसे आकर्षक चीजों में से एक है. प्रकृति की सैर वास्तव में असल जिन्दगी को जीना है जो आनंद हमे प्रकृति की गोद में मिलता है वह अमूल्य है. प्रकृति की गोद में जाते ही हम सारी परेशानियों और तनाव से मुक्त हो जाते है. कसौली की यात्रा के दौरान लोअर मॉल से किममुघाट और सूर्यास्त बिंदु तक प्रकृत्ति की सैर जरुर करे. यह पैदल यात्रा आपको विसम्यकारी अनुभव दे जाएगी. प्रकृति की सैर के दौरान आपकी नज़रो की समक्ष हिमालय की चोटियों के बेहतरीन मनोरम दृश्य की शानदार तस्वीर प्रस्तुत होगी.

कसौली तक कैसे पहुंचे?

चंडीगढ़ / कालका के लिए ट्रेन माध्यम से जाए । फिर, एक बस धरमपुर और दूसरी बस धरमपुर से कसौली के लिए जाए। आप कैब भी बुक कर सकते हैं।

घूमने के स्थान: मेडिटेशन पॉइंट, क्राइस्ट चर्च, गिल्बर्ट ट्रेल, हेरिटेज मार्केट, हनुमान मंदिर।

न्यूनतम अवधि: 2 दिन

जीवनशैली, सामाजिक, मनोरंजन, यात्रा, व्यंजन और अन्य विषयो पर आधारित महत्वपूर्ण और रोमांचक जानकारी के लिए Top10Things.co.in पर एक नज़र डाले।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ENGLISH