तनाव को कम करने के लिए Top 10 युक्तियाँ

तनाव को कम करने के लिए Top 10 युक्तियाँ

तनाव को कम करने के लिए शीर्ष 10 युक्तियाँ

  • व्यायाम
  • कैफीन का सेवन कम करें
  • लिखने की आदत डाले
  • च्युइंग गम
  • अपने प्रियजनों के साथ समय बिताएं
  • हंसना
  • ना कहना सीखे
  • सुखदायक संगीत सुनें
  • योगा क्लास लें
  • सचेतन का अभ्यास

10व्यायाम:-

व्यायाम के माध्यम से अपने शरीर पर शारीरिक तनाव डालने से मानसिक तनाव दूर हो सकता है। व्यायाम एक बहुत ही आसान तरीका है तनाव को दूर करने का. जब हम नियमित रूप करते है तो आप महसूस करोगे की आपको चिंता का अनुभव कम होगा.  चिंता का तनाव कम होने पर हम उन समस्याओ को समझने और निपटने में ज्यादा सक्षम हो जाते है जिनकी वजह से तनाव होता है. व्यायाम लंबे समय में आपके शरीर के तनाव हार्मोन जैसे कोर्टिसोल को कम करता है। यह एंडोर्फिन को रिलीज करने में भी मदद करता है, जो कि रसायन होते हैं जो आपके मूड को बेहतर बनाते हैं और प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में कार्य करते हैं। व्यायाम से आपकी नींद की गुणवत्ता में भी सुधार हो सकता है. जब आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, तो आप अपने शरीर में अधिक सक्षम और आत्मविश्वास महसूस कर सकते हैं, जो बदले में मानसिक भलाई को बढ़ावा देता है।

9कैफीन का सेवन कम करें:-

कॉफी, चाय, चॉकलेट और ऊर्जा पेय में पाया जाने वाला कैफीन आपकी शारारिक ऊर्जा को बढाती है लेकिन इससे कई प्रकार की हानि भी होती है. इसका अधिक सेवन आपकी चिंता को और बढ़ा सकता है. अगर कैफीन आपको चिड़चिड़ा या चिंतित करती है तो आपको इसका सेवन कम या बंद कर देना चाहिए. इसके अधिक सेवन से अवसाद, चिंता और नींद नही आने की समस्या हो सकती है. कैफीन को प्रतिदिन में 100 से 200 मिलीग्राम के बीच में ही लेना चाहिए.

8लिखने की आदत डाले:-

तनाव को कम करने के लिए लिखने की आदत डाले, तनाव को सँभालने का यह बेहतरीन तरीका है. आप जो भी चीज़े करते है और आपको अच्छी लगती है क्यों न उन्हें लिखा जाए. अपने अच्छे विचारो को रोज़ाना लिखे यह निश्चित ही आपकी तनाव को चिंता को कम करेगा.

7च्युइंग गम:-

च्युइंग गम चबाने को एक बुरी आदत मानते है लेकिन एक शोध से पता चला है की जो लोग च्युइंग गम चबाते है वे चिंता और तनाव से मुक्त रहते है. च्यूइंग गम मस्तिष्क की तरंगों को शिथिल लोगों के समान बनाता है साथ ही, आपके मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ावा देता है। इससे याद्दाश्त भी तेज होती है.

6अपने प्रियजनों के साथ समय बिताएं:-

प्रियजनों और दोस्तों को साथ मिलने से भी तनावपूर्ण समय से गुजरने में समय नही लगता. दोस्तों को एक बड़ा और अच्छा समूह होने से आपको अपनेपन और आत्म-मूल्य का एहसास होता है, जो कठिन समय में आपकी मदद कर सकता है। अपने प्रियजनों और दोस्तों के साथ समय बिताने से आप उन्हें मन की बात कह पाते हो और मन हल्का हो जाता है तो तनाव कम होने की संभावना होती है.

5हंसना:-

बहुत मुश्किल है तनाव के समय में हंसना लेकिन यह जरुरी भी है. हँसने से काफी तनाव कम होता है, यह आपके स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है. हंसने से आपको तनाव प्रतिक्रिया से राहत मिलेगी और अपनी मांसपेशियों को आराम देकर तनाव से राहत पा सकते है. हँसी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली और मनोदशा को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकती है। कैंसर से पीड़ित लोगों के बीच एक अध्ययन में पाया गया कि हँसी हस्तक्षेप समूह के लोगों ने उन लोगों की तुलना में अधिक तनाव राहत का अनुभव किया जो बस विचलित थे। तनाव के समय में आप मजेदार टीवी शो देख कर भी तनाव कम कर सकते है.

4ना कहना सीखे:-

हर चीजों पर हमारा काबू नही होता लेकिन कुछ चीज़े होती है जो हमारे बस में होती है. अपने जीवन के उन हिस्सों पर नियंत्रण रखें जिन्हें आप बदल सकते हैं जो तनाव पैदा कर रही हैं। कई बार बहुत सारी जिम्मेदारियों को संभालना और उन्हें पूरा करना कभी-कभी भारी लग सकता है जिससे मानसिक तनाव बहुत बढ़ जाता है. इसलिए ना कहना सीखे. अनावश्यक रूप से ज्यादा लोड न ले इससे आपका तनाव कम हो सकता है.

3सुखदायक संगीत सुनें:-

बहुत कम लोग होते है जो संगीत सुनने के शौकीन नही होते. संगीत सुनने से हमारे शरीर को बहुत आराम मिलता है. आनंदित संगीत को सुनना बहुत अद्भुत अहसास है, इससे हमे तनाव में सुकून की अनुभूति होती है. धीमी गति वाला वाद्य संगीत निम्न रक्तचाप और हृदय गति के साथ-साथ तनाव हार्मोन में मदद करके विश्राम की प्रतिक्रिया को प्रेरित कर सकता है। संगीत केवल मनोरंजन का अच्छा माध्यम नही है बल्कि इससे हमारे शरीर को भी बहुत फायदे होते है.

2योगा क्लास लें:-

योग तनाव से मुक्ति पाने का अच्छा उपाय है, अधिकतर लोगो ने तनाव से निजात पाने के लिए योग को अपनाया है. आज की भौतिकता वादी संस्कृति में दिन रात भाग दौड़, काम का दबाव, रिश्तो में अविश्वास आदि के कारण तनाव बहुत बढ़ गया है कुछ मिनटों का योग हमे सारे दिनभर की चिंता से मुक्त रखने की क्षमता रखता है. यह मानसिक रूप से ही नही बल्कि शारारिक रूप से भी स्वस्थ रखता है. योगा करने से आपकी आत्मिक शांति, कार्य शक्ति, मन की एकाग्रता एवं धारणा शक्ति बढती है. एक शोध में पाया गया है कि योग मनोदशा को बढ़ा सकता है और अवसाद और चिंता के इलाज में अवसादरोधी दवाओं की तरह प्रभावी भी हो सकता है।

1सचेतन का अभ्यास:-

आज-कल लोगो में एकाग्रता और  तनाव की कमी बढती ही जा रही है, हर कोई अपनी समस्याओ से तनाव में चला जाता है. यह तनाव धीरे-धीरे गहरी चिंता और अवसाद का रूप ले लेता है, जो बहुत ही हानिकारक साबित हो सकता है. ऐसे में आप माइंडफुलनेस मेडिटेशन को अपनाए, इसका अभ्यास करने से मानसिक स्वास्थ्य भी सुधरता है. साथ ही, यह चिंता तथा दुःख को दूर करने में मददगार साबित होगा. माइंडफुलनेस मेडिटेशन उच्चरक्तचाप को कम रखने में भी एक बड़ी भूमिका निभाता है।

मनोरंजन, यात्रा, व्यंजन, जीवनशैली, सामाजिक और अन्य विषयो की अद्भुत और उपयोगी जानकारी के लिए Top10Things.co.in को देखे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ENGLISH